डब्ल्यूएचओ ने कहा- सभी देश महामारी से लड़ने के लिए साथ आएं, ऐसा नहीं हुआ तो वैक्सीन आने से पहले ही मौतों का आंकड़ा 20 लाख के पार होगा; दुनिया में 3.32 करोड़ केस


  • Hindi Information
  • Worldwide
  • Coronavirus Novel Corona Covid 19 27 Sept | Coronavirus Novel Corona Covid 19 Information World Circumstances Novel Corona Covid 19

वॉशिंगटनएक घंटा पहले

कनाडा की राजधानी टोरंटो में मरीज को एंबुलेंस से उतारकर अस्पताल ले जाती हेल्थ वर्कर। कनाडा में अब तक डेढ़ लाख से ज्यादा लोग संक्रमित मिले हैं।- फाइल फोटो

  • दुनिया में 10 लाख से ज्यादा लोगों की मौत, 2.45 करोड़ से ज्यादा लोग अब स्वस्थ
  • अमेरिका में 72.99 लाख लोग संक्रमित, 2.09 लाख से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं

विश्व स्वास्थ्य संगठन ( डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि कोरोना महामारी से लड़ने के लिए सभी देश साथ आएं। डब्ल्यूएचओ के इमरजेंसी प्रोग्राम के प्रमुख माइक रेयान ने शनिवार को कहा-अगर ऐसा नहीं हुआ तो तो वैक्सीन आने और इसका इस्तेमाल होने से पहले ही संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 20 लाख के पार हो जाएगा। रेयान ने कहा कि युवाओं को संक्रमण फैलाने के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए। इंडोर प्लेसेज पर बुजुर्गों और युवाओं के एक साथ जुटने के कारण संक्रमण तेजी से फैल रहा है।

कनाडा ने कोरोना वैक्सीन के 2 करोड़ डोज हासिल करने के लिए डील किया है। प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने रविवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में तैयार की जा रही वैक्सीन खरीदने के लिए एस्ट्राजेनेका के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। नई डील के साथ, कनाडा सरकार ने अब तक छह प्रमुख वैक्सीन खरीदने के लिए सौदा कर लिया है। कनाडा में अब तक संक्रमण के 1 लाख 53 हजार 58 मामले मिले हैं। यहां 9 हजार 268 संक्रमितों की जान भी गई है।

दुनिया में संक्रमितों का आंकड़ा 3.33 करोड़ से ज्यादा हो गया है। ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 2 करोड़ 44 लाख 05 हजार 383 से ज्यादा हो चुकी है। अब तक 10 लाख 588 मौतें हो चुकी हैं। ये आंकड़े www.worldometers.data/coronavirus के मुताबिक हैं।]

इन 10 देशों में कोरोना का असर सबसे ज्यादा

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 73,02,826 2,09,291 45,36,625
भारत 60,52,297 95,151 49,95,857
ब्राजील 47,19,099 1,41,503 40,50,837
रूस 11,51,438 20,324 9,43,218
पेरू 8,00,142 32,142 6,57,836
स्पेन 7,35,198 31,232 उपलब्ध नहीं
मैक्सिको 7,26,431 76,243 5,21,241
अर्जेंटीना 7,02,484 15,543 5,56,489
साउथ अफ्रीका 6,69,498 16,376 6,01,818
फ्रांस 5,38,569 31,727 94,891

फ्रांस : बढ़ता संक्रमण
फ्रांस में संक्रमण की दूसरी लहर भी घातक साबित हो रही है। इस हफ्ते की शुरुआत से लगभग हर दिन 13 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं। शनिवार को 14 हजार 412 मामले सामने आए। मंगलवार को 16 से ज्यादा नए मामले सामने आए थे। सरकार की परेशानी यह है कि वह सख्त प्रतिबंध लगाना तो चाहती है लेकिन कारोबारी संगठन और आम लोग इसके विरोध में उतर आए हैं।

मार्सिले में सरकार ने बार और रेस्टोरेंट्स बंद करने को कहा। लेकिन, स्थानीय प्रशासन ने इसका विरोध किया। इस शहर में दो क्लस्टर मिले हैं और दोनों रेस्टोरेंट्स से संबंधित हैं। दूसरी ओर, हेल्थ मिनिस्ट्री ने भी साफ कर दिया है कि संक्रमण को रोकने के लिए फिलहाल सावधानी से ही सबसे अच्छा उपाय है। लिहाजा, प्रतिबंधों का पालन तो करना ही होगा। फ्रांस में अब तक 5 लाख 27 हजार 446 मामले सामने आ चुके हैं।

हॉन्गकॉन्ग : हफ्तों बाद पहला मामला सामने आया
हॉन्गकॉन्ग में कई हफ्ते बाद पहला मामला सामने आया है। यहां सरकार ने इसे संक्रमण की तीसरी लहर बता दिया है। हेल्थ मिनिस्ट्री ने शनिवार रात जारी बयान में कहा- यह मरीज बहरीन से आया था और जांच के दौरान एयरपोर्ट पर ही उसके संक्रमित होने का पता लगा। फिलहाल, उसकी हालत के बारे में जानकारी नहीं दी गई है। बहरहाल, इस मामले के सामने आने के बाद अब प्रशासन नए प्रतिबंधों पर विचार कर रहा है।

चीफ एग्जीक्यूटिव कैरी लेम ने कहा- हमने संक्रमण पर दो बार पूरी तरह काबू पाया था। लेकिन, हमारे सामने अब तीसरी लहर का खतरा है। कम्युनिटी ट्रांसफर को खतरे नकारा नहीं जा सकता। लिहाजा, सख्त उपाय किए जाएंगे।

हॉन्गकॉन्ग में कई हफ्ते बाद पहला मामला सामने आया है। यहां सरकार ने इसे संक्रमण की तीसरी लहर बताया है। (फाइल)

हॉन्गकॉन्ग में कई हफ्ते बाद पहला मामला सामने आया है। यहां सरकार ने इसे संक्रमण की तीसरी लहर बताया है। (फाइल)

ब्रिटेन : जॉनसन की मुश्किल
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कोविड-19 की दूसरी लहर को देखते हुए कई सख्त प्रतिबंध लगाए हैं। नागरिक तो इसका विरोध कर रही है रहे थे, अब संसद में भी जॉनसन की परेशानी बढ़ गई है। सांसदों का कहना है कि जॉनसन ने संसद और सांसदों को भरोसे में लिए बिना प्रतिबंधों का आदेश जारी किया। इसके वजह से लोगों में सरकार के खिलाफ नाराजगी बढ़ रही है। हाल ही में एक सर्वे भी किया गया। इसके नतीजों के मुताबिक, प्रतिबंधों के पहले ही हफ्ते में सरकार की लोकप्रियता में तीन फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कोविड-19 की दूसरी लहर को देखते हुए कई सख्त प्रतिबंध लगाए हैं। शनिवार को उनकी ही पार्टी के कुछ सांसदों ने इसका विरोध किया। (फाइल)

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कोविड-19 की दूसरी लहर को देखते हुए कई सख्त प्रतिबंध लगाए हैं। शनिवार को उनकी ही पार्टी के कुछ सांसदों ने इसका विरोध किया। (फाइल)

पेरू : साल के आखिर तक रह सकता है आपातकाल
संक्रमण की दूसरी लहर को लेकर लैटिन अमेरिकी देश पेरू ने सख्त रवैया अपनाया है। यहां राष्ट्रीय आपातकाल 31 अक्टूबर तक के लिए बढ़ा दिया गया है। प्रेसिडेंट मार्टिन विजकारा ने कहा- इस बात की संभावना है कि यह इमरजेंसी साल के आखिर तक बनी रहे। फिलहाल, हम इसे 31 अक्टूबर तक बढ़ा रहे हैं। पेरू की हेल्थ मिनिस्ट्री ने एक बयान में कहा- हम जानते हैं कि लोगों को कुछ प्रतिबंधों से काफी परेशान होना पड़ रहा है। लेकिन, कोविड-19 से बचने का फिलहाल यही उपाय है कि हम हर सावधानी बरतें। मास्क और सैनिटाइजेशन का खास ध्यान रखें।

.



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *