सीएम योगी का एलान, नोएडा-ग्रनो में बनेगा उत्तर भारत का सबसे बड़ा लॉजिस्टिक हब


सीएम योगी आदित्यनाथ
– फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर

कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for simply ₹299 Restricted Interval Provide. HURRY UP!

ख़बर सुनें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा में उत्तर भारत का सबसे बड़ा लॉजिस्टिक हब बनाने का एलान किया है। योगी अपने सरकारी आवास पर इन्वेस्ट यूपी की उच्च स्तरीय प्राधिकृत समिति (प्रदेश स्तरीय उद्योग बंधु) को संबोधित कर रहे थे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण के साथ ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेस-वे के पास का क्षेत्र एक आकर्षक निवेश मंजिल है। उन्होंने कहा कि दादरी में मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क और बोडाकी में ट्रांसपोर्ट हब, ग्रेटर नोएडा क्षेत्र को उत्तर भारत के सबसे बड़े लॉजिस्टिक्स हब के रूप में स्थापित करेंगे। 

मुख्यमंत्री ने बताया कि पारंपरिक निवेश के अवसरों के साथ सौर ऊर्जा, जैव ईंधन और नागरिक उड्डयन की असीम संभावनाओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है। डिफेंस एवं एयरोस्पेस, वेयरहाउसिंग व लॉजिस्टिक्स, डेटा सेंटर, इलेक्ट्रिक वाहन, फार्मास्युटिकल उद्योग राज्य में निवेश के नए केंद्र हैं। 

उन्होंने निवेशकों के लिए कई सहूलियतों का एलान भी किया। कहा कि यूपी को औद्योगिक प्रदेश बनाने का महाभियान शुरू हो गया है। सरकार ने इस वर्ष औद्योगिक इकाइयों को 95 हजार करोड़ रुपये ऋण दिलाने का लक्ष्य तय किया है और 16 हजार करोड़ के नए निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। इससे बड़ी संख्या में रोजगार के  अवसर पैदा होंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा में उत्तर भारत का सबसे बड़ा लॉजिस्टिक हब बनाने का एलान किया है। योगी अपने सरकारी आवास पर इन्वेस्ट यूपी की उच्च स्तरीय प्राधिकृत समिति (प्रदेश स्तरीय उद्योग बंधु) को संबोधित कर रहे थे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण के साथ ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेस-वे के पास का क्षेत्र एक आकर्षक निवेश मंजिल है। उन्होंने कहा कि दादरी में मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क और बोडाकी में ट्रांसपोर्ट हब, ग्रेटर नोएडा क्षेत्र को उत्तर भारत के सबसे बड़े लॉजिस्टिक्स हब के रूप में स्थापित करेंगे। 

मुख्यमंत्री ने बताया कि पारंपरिक निवेश के अवसरों के साथ सौर ऊर्जा, जैव ईंधन और नागरिक उड्डयन की असीम संभावनाओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है। डिफेंस एवं एयरोस्पेस, वेयरहाउसिंग व लॉजिस्टिक्स, डेटा सेंटर, इलेक्ट्रिक वाहन, फार्मास्युटिकल उद्योग राज्य में निवेश के नए केंद्र हैं। 

उन्होंने निवेशकों के लिए कई सहूलियतों का एलान भी किया। कहा कि यूपी को औद्योगिक प्रदेश बनाने का महाभियान शुरू हो गया है। सरकार ने इस वर्ष औद्योगिक इकाइयों को 95 हजार करोड़ रुपये ऋण दिलाने का लक्ष्य तय किया है और 16 हजार करोड़ के नए निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। इससे बड़ी संख्या में रोजगार के  अवसर पैदा होंगे।

.



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *